जीवन बीमा लेते समय इन 10 बातों को ना करें अनदेखा

जीवन बीमा लेते समय इन 10 बातों को ना करें अनदेखा

बीमा एक जोखिम प्रबंधन तकनीक है और हम इसे परेशानी रहित जीवन जीने की तकनीक के रूप में मान सकते हैं। हर कोई व्यक्ति अपने जीवन में आर्थिक कठिनाइयों का सामना कर सकता है। लेकिन हम में से कई इस तथ्य को यह कहकर अनदेखा कर देते हैं, “जाने दो और सब भगवान पर छोड़ दो!” क्या आप उनमें से एक हैं? अगर हाँ! फिर मत भूलें “भगवान स्वयं की मदद करने वालों की मदद करते हैं।” हमेशा भगवान में विश्वास रखें और अच्छे के लिए आशा करें। लेकिन इसके विपरीत, हमेशा सबसे खराब के लिए तैयार रहे। आज हम जीवन बीमा लेते समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए पर चर्चा करेंगे।

बीमा पॉलिसी होने से मन को शांति मिलती है कि हम चिकित्सा आपातकाल की किसी भी अप्रत्याशित घटना का सामना करने के लिए तैयार हैं या निधन की स्थिति में परिवार हमारे बिना जीवित रह सकता है। वास्तव में यह है कि बीमा होना बहुत महत्वपूर्ण है।

लेकिन जीवन बीमा पॉलिसी होने से कुछ और महत्वपूर्ण है। वह यह है की हम ऐसी पॉलिसी का चयन करें जो असल में हमारी मदद करें और हमारे बीमा खरीदने के मकसद को पूरा करें। एक सही जीवन बीमा पॉलिसी आपके पैसे को बचा सकती है।

जरूरत से अधिक जीवन बीमा कवर होने से आपकी जेब पर बोझ पड़ता है और कम बीमा कवर होने से वह लाभ नहीं मिलता है जिन्हें आप इससे प्राप्त करना चाहते हैं। हमने पॉलिसीधारकों के बीच एक आम दुविधा भी देखी है कि उन्हें पता नहीं होता कि उनकी जीवन बीमा पॉलिसी क्या कवर करती है और क्या नहीं।

इस तरह की दुविधाएं संकेत देती हैं कि बीमाधारकों ने लाभों को जाने बिना पॉलिसी खरीदी हैं।

हमारे इस ब्लॉक पर हम अक्सर यह कहते हैं कि बीमा पॉलिसी को जाने बिना बीमा खरीदने से अच्छा है कि आप बीमा ही ना खरीदे। आज के इस पोस्ट में हम देखेंगे कि जीवन बीमा लेते समय हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

इस ब्लॉग पर हम आपको सही बीमा पॉलिसी चुनने में मदद करने का प्रयास करते हैं जो वास्तव में आपकी आवश्यकताओं को पूरा करें। हमारे पिछले पोस्ट में हमने आपको बताया था कि जीवन बीमा खरीदने से पहले आपको कौन-कौन से सवाल अपने जीवन बीमा एजेंट से पूछने चाहिए। और आज यहां हमने कई बातें सूचीबद्ध की हैं जिन्हें अधिकांश पॉलिसीधारक पॉलिसी खरीदने के समय अनदेखा करते हैं।

ये गलतियों जरूरत पड़ने पर जीवन बीमा क्लेम रिजेक्ट होने का कारण बन सकती है। जीवन बीमा लेते समय इन बातों का जरूर ध्यान रखें और इन्हें कभी अनदेखा ना करें।

जीवन बीमा लेते समय इन बातों को ना करें अनदेखा

जीवन बीमा लेते समय इन बातों को ना करें अनदेखा

जीवन बीमा खरीदने में देरी करना

आपको जीवन बीमा लेने के कई कारण पता होंगे और आपने शायद एक खरीदने का फैसला भी किया हो। हालांकि आपको पता है कि आपके पास एक जीवन बीमा पॉलिसी होनी चाहिए लेकिन यह सब कुछ जानने के बाद भी आप बीमा खरीदने में देरी कर रहे हो।

मैंने भी ऐसा ही किया था, मैं खुद कहता था कि “कल मैं निश्चित रूप से जीवन बीमा कवर खरीदूंगा,” लेकिन वह कल कभी नहीं आया और मैंने बीमा कवर खरीदने के लिए काफी समय लगाया और मुझे अधिक प्रीमियम अदा करना पड़ा।

बीमा खरीदने में देरी करने के दो नुकसान होते हैं पहला यह कि आपको अधिक प्रीमियम अदा करना पड़ता है और दूसरा यह कि जितनी देर तक आपके पास पॉलिसी नहीं होती है तब तक आप आर्थिक तौर से सुरक्षित नहीं होते हैं (कौन जानता है कि चोट या मौत किस के दरवाजे को खटखटाएगी?)।

जीवन बीमा प्रीमियम आपकी उम्र से तय किया जाता है। जितनी जल्दी कोई व्यक्ति पॉलिसी खरीदता है उसको उतना ही प्रीमियम कम देना पड़ता है।

पढ़ें: मैं कैसे जांच करूं कि बीमा कंपनी वैध है या नहीं?

गलत जीवन बीमा पॉलिसी का चयन

जैसा कि मैंने पहले चर्चा की थी बीमा पॉलिसी खरीदने से सही पॉलिसी चुनना अधिक महत्वपूर्ण है, इसलिए पहले आपको अपनी बीमा जरूरतों को जानना चाहिए और आपको यह जानने की कोशिश करनी चाहिए कि आपको कितना बीमा कवर खरीदना चाहिए।

खुद से और अपने बीमा एजेंट से बीमा से संबंधित प्रश्न पूछें जैसे कि मुझे बीमा कवर की आवश्यकता क्यों है? मैं सही जीवन बीमा कवर कैसे खरीद सकता हूं? मेरे पास कितना कवर होना चाहिए? बीमा की अवधि क्या होनी चाहिए? क्या मुझे अतिरिक्त कवरेज के लिए राइडर्स जोड़ने की ज़रूरत है?

जीवन बीमा कितने तरह के होते हैं? इन सवालों के जवाब देने के दौरान आपकी वर्तमान और भविष्य दोनों की जरूरतों पर विचार करें।

आम तौर पर, बीमा कवर आपकी वार्षिक आय का 10 से 20 गुना होना चाहिए उदाहरण के तौर पर मान लें कि जॉन बीमा कवर खरीदना चाहता है और वह सालाना 2 लाख कमाता है। इस तरह, उसके पास 20 लाख (2 * 10 लाख) से 40 लाख (20 * 2 लाख) तक का बीमा कवर होना चाहिए।

हालांकि, असली जीवन बीमा कवर आपकी वर्तमान और भविष्य की वित्तीय जरूरतों पर निर्भर करता है। लेकिन बीमा विशेषज्ञ इस रेंज में बीमा खरीदने के लिए कहते हैं।

बिना विशेषज्ञ की सलाह के बीमा खरीदना

अपने लिए सही जीवन बीमा पॉलिसी चुनना कोई रॉकेट साइंस नहीं है। आपको अपनी वर्तमान और भविष्य की स्थितियों पर विचार करके अपनी बीमा आवश्यकताओं का विश्लेषण करना होगा और आप अपने लिए सही बीमा पॉलिसी चुन पाएंगे।

हालांकि, मेरी राय में जीवन बीमा पॉलिसी चुनने में हमें एक इंश्योरेंस एजेंट की सलाह जरूर लेनी चाहिए क्योंकि वह लोग पेशेवर होते हैं और वे बेहतर पॉलिसी में निवेश करने के तरीके को बेहतर तरीके से जानते हैं। अपनी बीमा ज़रूरतें अपने बीमा एजेंट को बता के आप उससे सलाह ले सकते हैं कि आपके लिए कौन सी जीवन बीमा पॉलिसी अच्छी रहेगी।

कुछ एजेंट कंसल्टेशन की फीस लेते हैं तो इसमें मेरे हिसाब से कोई हर्ज नहीं है क्योंकि वह आपकी एक बड़े निवेश में मदद कर रहे हैं। लेकिन अगर आप उससे ही जीवन बीमा पॉलिसी खरीदते हो तो कंसल्टेशन फीस देनी नहीं बनती क्योंकि उसे पॉलिसी बेचने से ही कमीशन मिल जाएगा।

चुनी गई पॉलिसी की तुलना ना करना

प्रत्येक ई-शॉपिंग वेबसाइट पर कुछ रुपये बचाने के लिए हम किसी सामान को खरीदने से पहले हम दूसरी वेबसाइट पर भी उस प्रोडक्ट की कीमत देखते हैं। जहां से हमें सस्ता मिलता है हम वहां से ही खरीदते हैं। लेकिन जब हम बीमा उत्पादों को खरीदते हैं तो हम इस महत्वपूर्ण बात को भूल जाते हैं; जिसमें हम अपनी आय का एक बड़ा हिस्सा निवेश करते हैं।

बीमा बाजार दुनिया भर में बहुत तेजी से उभर रहा है। कई नए सार्वजनिक और निजी खिलाड़ी नए ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए उनसे बीमा खरीदने पर आकर्षक छूट देते हैं।

इसलिए, जीवन बीमा खरीदने से पहले, कुछ बीमा तुलना वेबसाइटों पर जाएं और अपने पैसे बचाने के लिए बीमा उत्पादों की तुलना करें। बड़ी संभावनाएं हैं कि आप उचित मूल्य पर जीवन बीमा खरीद पाएंगे।

मैंने भी ऐसा ही किया था अपना सेहत बीमा खरीदने से पहले और मुझे कंपनी की ओर से ₹2000 की छूट मिल गई और साथ ही में मुझे डेंटल इंश्योरेंस मुफ्त में दिया गया।

टिप: जीवन बीमा उत्पादों की तुलना करते समय केवल कीमत पर ही ध्यान केंद्रित ना कर ले, पॉलिसी में क्या-क्या दिया जा रहा है यह भी देखें। कुछ बीमा कंपनियां बहुत सस्ते बीमा कवर बेचती हैं लेकिन उन बीमा कवर में दूसरी पॉलिसी के मुकाबले बहुत कम लाभ दिए जाते हैं। कम लागत वाली जीवन बीमा पॉलिसी आपको कम लाभ प्रदान कर सकती है।

ऑनलाइन जीवन बीमा खरीदने को अनदेखा करना

इंटरनेट और प्रौद्योगिकी के इस युग में, सब कुछ हमारी उंगलियों पर उपलब्ध है। कई बीमाकर्ता जीवन बीमा उत्पादों को ऑनलाइन बेचते हैं। आप बीमाकर्ता की वेबसाइट पर जा सकते हैं, जिनसे आप पॉलिसी खरीदना चाहते हैं, कीमतों के साथ उनके द्वारा पेश किए गए विभिन्न उत्पादों की जांच करने के लिए।

जीवन बीमा ऑनलाइन खरीदना अधिक विश्वसनीय है। क्योंकि आप सीधे बीमा कंपनी से खरीदते हैं। इसे मध्यस्थ के माध्यम से नहीं खरीदते। लेकिन यदि आपको नहीं पता है कि आपके लिए कौन-सी बीमा पॉलिसी सही है तो एक शिक्षित बीमा एजेंट आपको अच्छी जीवन बीमा पॉलिसी चुनने के लिए बेहतर मार्गदर्शन दे सकता है।

ऑनलाइन इंश्योरेंस कंपैरिजन वेबसाइट आपकी एक अच्छी बीमा पॉलिसी चुनने में मदद कर सकती हैं। आप ऐसी वेबसाइट पर जाकर या उनके टोल फ्री नंबर पर फोन करके सहायता मांग सकते हैं कि आपकी एक अच्छी जीवन बीमा पॉलिसी चुनने में मदद की जाए।

ऐसी वेबसाइट से जीवन बीमा खरीदने का एक फायदा यह भी होता है कि अगर आपका क्लेम बीमा कंपनी द्वारा रिजेक्ट कर दिया जाता है लेकिन आपका क्लेम सही है तो ऐसी वेबसाइट आपको क्लेम लेने में मदद भी करती है।

बीमा कंपनी और एजेंट के पंजीकरण की जांच नहीं करना

भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (आई.आर.डी.ए.आई.) भारत में सभी बीमा कंपनियों पर निगरानी रखती है। भारत में बीमा उत्पाद बेचने के लिए हर कंपनी के पास इस अथॉरिटी की मान्यता होनी चाहिए। अगर किसी कंपनी के पास आईआरडीएआई की मान्यता नहीं है तो इसका मतलब है कि वह कंपनी फर्जी है।

आप यह सुनिश्चित करने के लिए कि आप एक वास्तविक जीवन बीमा कंपनी और एजेंट से पॉलिसी खरीद रहे हैं आप अपने पक्ष से कुछ सावधानी बरत सकते हैं।

जीवन बीमा पॉलिसी खरीदने के दौरान, संबंधित प्राधिकरणों की वेबसाइटों (जो आपके क्षेत्र में बीमा उत्पादों को नियंत्रित करते हैं) जैसे आई.आर.डी.ए.आई. (जो भारत में बीमा उत्पादों को नियंत्रित करता है) पर जा करके बीमाकर्ता के पंजीकरण की जांच करें।

ऐसी अथॉरिटी लगातार अपनी वेबसाइट पर यह अपडेट करती है की कौन-सी नई कंपनी को इसने मान्यता दी है और किस की मान्यता किसने रद्द की है।

साथ ही, एजेंट के लाइसेंस की जांच करना न भूलें। अगर उसके पास वैध लाइसेंस नहीं है तो उससे जीवन बीमा ना खरीदें। अगर किसी बीमा एजेंट के पास कंपनी द्वारा दिया गया लाइसेंस नहीं है तो इसका मतलब है कि वह इस योग्य नहीं है कि आपके लिए सही बीमा पॉलिसी का चयन कर सके।

ऐसे लोग वह जीवन बीमा बेचते हैं जिसमें उन्हें ज्यादा मुनाफा मिले।

पढ़ें: भारत में पंजीकृत जीवन बीमा कंपनियों की सूची

इंश्योरेंस एजेंट से सवाल ना पूछना

भूमि या घर खरीदते समय, हम विक्रेताओं से अनगिनत प्रश्न पूछते हैं जैसे कि आप इसे क्यों बेच रहे हैं? असली मालिक कौन है? आदि। हम यह सुनिश्चित करने के लिए इन सभी सवालों को पूछते हैं कि हम एक कानूनी अनुबंध में शामिल होने जा रहे हैं। जीवन बीमा भी एक कानूनी अनुबंध है। इसलिए कानूनी तरीके से इसका चयन करें। जितने सवाल हो सकते हैं पूछें (ओह! केवल बीमा से संबंधित)।

यदि आप निवेश घटक के साथ जीवन बीमा खरीद रहे हैं तो विभिन्न जोखिमों, एक वर्ष में स्विचिंग की संख्या, निवेश पोर्टफोलियो के प्रबंधन के लिए शुल्क, और पॉलिसी सेरेंडर मूल्य आदि के बारे में भी पूछें।

यह भारत में बहुत आम है कि अक्सर लोग एक रिश्तेदार या मित्र (जो बीमा एजेंट है) के माध्यम से जीवन बीमा खरीदते लेते हैं बिना किसी जानकारी के कि, “पॉलिसी क्या कवर करती है और क्या नहीं?” किसी रिश्तेदार के माध्यम से जीवन बीमा खरीदने में कुछ भी गलत नहीं है। लेकिन समस्या यह है कि पॉलिसी के बारे में कुछ भी जाने बिना आप प्रीमियम का भुगतान करने के लिए तैयार हो जाते हैं।

आपकी जरूरतें आपसे ज्यादा अच्छी तरह कोई नहीं समझ सकता। इसीलिए आप अपने इंश्योरेंस एजेंट से वह सारे सवाल पूछे जो जरूरी है।

यहां हमने कुछ महत्वपूर्ण सवाल दिए हैं जो आपको जीवन बीमा खरीदते समय अपने इंश्योरेंस एजेंट से पूछने चाहिए। अगर वह इन प्रश्नों का उत्तर देने में असमर्थ है तो इसका मतलब है कि वह इस योग्य नहीं है कि आपको एक सही जीवन बीमा पॉलिसी बेचे।

नियम और शर्तें ना पढ़ना

एक विश्लेषणात्मक क्रेता बनें, जो जीवन बीमा खरीदने के दौरान कुछ भी माने बिना पॉलिसी डॉक्युमेंट के सभी नियमों और शर्तों को ध्यान से और पूरी तरह से पढ़ता है। बीमा दो पक्षों (बीमाकर्ता और बीमित) के बीच एक कानूनी अनुबंध है। इसलिए इस तरह के अनुबंध में सभी नियम, शर्तें, कर्तव्यों और देनदारियां स्पष्ट और पारदर्शी होनी चाहिए।

प्रस्ताव फॉर्म भरने से पहले, जीवन बीमा पॉलिसी ब्रोचर के लिए पूछें। बिना किसी जल्दी के इसे अच्छी तरह से पढ़ें। इसे पढ़ने के लिए अपना पूर्ण समय लें। अगर आपकी एजेंट के पास बीमा पॉलिसी ब्रोचर नहीं पड़ा है तो आप पॉलिसी ब्रोचर को ईमेल या पोस्ट से भेजने के लिए अपने बीमा एजेंट को या कंपनी को कह सकते है। लेकिन इसे खुद पढ़े बिना जीवन बीमा ना खरीदें।

कुछ बीमाकर्ता अपनी वेबसाइट पर ऐसे दस्तावेज प्रदान करते हैं इसलिए आप अपने बीमाकर्ता की वेबसाइट पर जा सकते हैं।

व्यक्तिगत रूप से जीवन बीमा प्रपोजल फॉर्म ना भरना

जीवन बीमा प्रपोजल फॉर्म खुद भरे और सभी तथ्यों को स्पष्ट रूप से और सच्चाई से प्रकट करें। बीमा विश्वास के सिद्धांत पर काम करता है इसलिए सभी पूछे गए तथ्यों को स्पष्ट रूप से पेश करना चाहिए जिससे भविष्य में किसी रिजेक्शन का सामना नहीं करना पड़ेगा।

यदि कोई व्यक्ति इंश्योरेंस खरीदते वक्त तथ्यों को सही से नहीं रखता है तो बीमा कंपनी पॉलिसी देने से मना भी कर सकती है या क्लेम रिजेक्ट भी कर सकती है।

इसी तरह अगर इंश्योरेंस कंपनी ने नियम और शर्तों का स्पष्ट रूप से खुलासा नहीं किया है तो पॉलिसीधारक पॉलिसी दस्तावेजों को प्राप्त करने के बाद फ्री-लुक-अवधि (आमतौर पर 15 दिन) के भीतर अपने अनुबंध को रद्द कर सकता है और अपने पैसे वापस ले सकता है।

प्रपोजल फॉर्म की फोटो कॉपी रखना न भूलें। अगर आप बीमाकर्ता से जीवन बीमा कवर लेने से इनकार करते हैं तो यह आपकी मदद कर सकता है।

बीमा एक निवेश नहीं है

जीवन बीमा पूरी तरह से जोखिम प्रबंधन तकनीक है। जिसमें आप किसी भी अप्रत्याशित घटना से निपटने के लिए निवेश करते हैं। बीमा उत्पाद का एकमात्र उद्देश्य नुकसान की स्थिति में आर्थिक सहायता प्रदान करना है; कमाई या परिसंपत्तियों को बढ़ाने के लिए नहीं। हाँ! यूनिट लिंक प्लान जैसे कुछ बीमा उत्पाद आपको परिपक्वता के समय रिटर्न के रूप में अपने निवेश का कुछ हिस्सा देते हैं।

लेकिन अगर आप एक निवेश विकल्प की तलाश में हैं तो आप गलत जगह पर हैं। भावी दुर्घटनाओं से निपटने के लिए जीवन बीमा कवर खरीदें।

यदि आप अपने भविष्य के वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अपना पैसा निवेश करना चाहते हैं तो एसआईपी (सिस्टमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान), इक्विटी फंड, म्यूचल फंड इत्यादि जैसे अन्य विकल्पों का चयन करें।

अंतिम सुझाव:आज के इस युग में अपने आपको और अपने परिवार को जोखिम से बचाने के लिए जीवन बीमा बहुत जरूरी है। असल में यह एक जिम्मेदारी है जो आप अपने परिवार के लिए निभाते हो। बीमा कवर खरीदने के दौरान ऊपर उल्लिखित बिंदुओं को नजरअंदाज ना करें।

मजाक: अगर आप लंबी उम्र जीना चाहते हैं तो जीवन बीमा खरीद ले। क्योंकि बीमा कंपनी की प्रार्थनाएं आपको मरने नहीं देंगी, नहीं तो उसे क्लेम भरना पड़ेगा।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.