शेयर मार्किट में डिविडेंड क्या है?

शेयर मार्किट में डिविडेंड क्या है?

डिविडेंड किसी विशेष कंपनी की आर्थिक स्थिति एवं शेयर धारक मूल्य को दर्शाता है। किसी कंपनी द्वारा अपने शेयरधारकों को उचित, निरंतर एवं नियमित बढ़ोतरी के साथ डिविडेंड प्रदान किया जाना उस कंपनी की मजबूत आर्थिक स्थिति, उन्नत भविष्य एवं अच्छी प्रतिष्ठा को दर्शाता है।

शेयरधारकों को कंपनी के डिविडेंड से संबंधित सभी तथ्यों की संपूर्ण जानकारी होनी चाहिए जैसे कि डिविडेंड पेआउट रेशों, डिविडेंड यील्ड, डिविडेंड के प्रकार, डिविडेंड की आवृत्ति एवं रिटेंशन रेशो। इसलिए आज हम डिविडेंड से संबंधित सभी पहलुओं पर विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे।

डिविडेंड क्या है?

डिविडेंड का अर्थ लाभांश होता है। डिविडेंड का अर्थ कंपनी के लाभ का वह भाग होता है जो शेयरधारकों को उनके शेयर की संख्या के अनुपात में दिया जाता है। एक कंपनी के लाभांश को निदेशक मंडल द्वारा सुनिश्चित किया जाता है जिसके लिए शेयरधारकों की सहमति अनिवार्य होती है। कंपनी द्वारा एक रिकॉर्ड डेट भी सुनिश्चित की जाती है तथा उस रिकॉर्ड डेट के समय पंजीकृत शेयरधारकों को ही लाभांश प्रदान किया जाता है।

डिविडेंड

नव स्थापित कंपनियों को विस्तार के लिए निरंतर निवेश की आवश्यकता होती है जिस कारण लाभ को कंपनी द्वारा पुनर्निवेश भी किया जा सकता है। इसके विपरीत, मार्केट में पूर्व स्थापित कंपनियां जिनके पास निवेश के लिए अतिरिक्त धन होता है वह अपने शेयरधारकों को निरंतर एवं उचित लाभांश प्रदान करते रहते हैं।

किसी भी कंपनी के लिए अपने शेयरधारकों को लाभांश प्रदान करना अनिवार्य नहीं होता है। किसी भी कंपनी का लाभ कंपनी द्वारा शेयरधारकों को लाभांश प्रदान करने में अथवा पुनर्निवेश में किया जा सकता है।

पढ़ें: शेयर मार्केट के फायदे: जाने शेयर बाजार में निवेश करने के फायदे

डिविडेंड के प्रकार

शेयर धारकों को दिए जाने वाले डिविडेंड के प्रकार निम्न होते हैं:

  • ऐसेट डिविडेंड (संपत्ति लाभांश): कंपनियां अपने शेयरधारकों को लाभांश के रूप में संपत्ति भी प्रदान कर सकती है। इसके प्रमुख उदाहरण है अचल संपत्ति, भौतिक संपत्ति एवं सिक्योरिटी आदि।
  • कैश डिविडेंड (नकद लाभांश): कंपनियां अपने शेयरधारकों को लाभांश के रूप में अधिकतर तौर पर नकद ही प्रदान करती हैं। शेयरधारकों को नकद राशि उनके पास उपलब्ध वर्तमान शेयर की संख्या के अनुसार दी जाती है।
  • कॉमन शेयर होल्डर डिविडेंड (सामान्य शेयर धारक लाभांश): कंपनियों द्वारा इन शेयरधारकों को शेयर की श्रेणी के अनुसार लाभांश प्रदान किया जाता है। कॉमन शेयर धारक को प्रेफरड शेयर धारक की अपेक्षाकृत लाभांश में प्राथमिकता नहीं दी जाती है। यदि प्रेफरड शेयरधारकों को लाभांश प्रदान करने के बाद अतिरिक्त लाभ शेष बचता है तो वह कॉमन शेयरधारकों में विभाजित किया जाता है अन्यथा नहीं।
  • स्क्रिप डिविडेंड (पत्रक डिविडेंड): कंपनी द्वारा शेयरधारकों को प्रोनोट द्वारा भी लाभांश प्रदान किया जाता है। यह प्रोनोट शेयरधारक को एक निश्चित तिथि पर नकद भुगतान का अधिकार प्रदान करता है।
  • स्पेशल डिविडेंड (विशेष लाभांश): कंपनियां अपने शेयरधारकों को विशेष लाभांश भी प्रदान करती है। यह लाभांश कंपनियों द्वारा निरंतर दिए जाने वाले लाभांश से अलग होता है। कंपनी द्वारा यह लाभांश अतिरिक्त लाभ शेष रहने की स्थिति में दिया जाता है।
  • स्टॉक डिविडेंड: कंपनियां अपने शेयरधारकों को लाभांश के रूप में शेयर भी प्रदान कर सकती है। शेयरधारकों को नए शेयर उनके पास उपलब्ध वर्तमान शेयर की संख्या के अनुसार दिए जाते हैं उदाहरण के तौर पर प्रति 1000 शेयर के लिए 10 नए शेयर लाभांश के रूप में।
  • प्रेफरड शेयरहोल्डर डिविडेंड (प्रेफरड शेयरधारक लाभांश): कंपनियों द्वारा इन शेयरधारकों को शेयर की श्रेणी के अनुसार लाभांश प्रदान किया जाता है। प्रेफरड शेयर धारक को अन्य श्रेणी की तुलना में प्राथमिकता देते हुए लाभांश प्रदान किया जाता है।
  • लिक्विडेटिंग डिविडेंड (परिसमापन लाभांश): विभिन्न कंपनियों द्वारा उनके आंशिक या संपूर्ण परिसमापन पर दिए जाने वाले लाभांश को लिक्विडेटिंग डिविडेंड (परिसमापन लाभांश) कहा जाता है। यह लाभांश शेयरधारकों को उनके पास उपलब्ध शेयर की संख्या के आधार पर दिया जाता है। यह लाभांश कंपनी द्वारा सभी देनदारियों चुकाए जाने के बाद ही शेयरधारकों को दिया जाता है।
  • एडिशनल डिविडेंड (अतिरिक्त लाभांश): कंपनियों द्वारा शेयरधारकों को कई अन्य प्रकार के लाभांश भी प्रदान किए जाते हैं। उदाहरण के तौर पर स्पिन ऑफ के द्वारा, वारंट के द्वारा और सहायक कंपनी के शेयर के द्वारा आदि।

पढ़ें: Zerodha ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) क्या है?

कुछ कंपनियां अपने संपूर्ण लाभ को शेयरधारकों के बीच विभाजित करती हैं एवं कुछ कंपनियां अपने संपूर्ण लाभ में से कुछ हिस्सा शेयरधारकों के बीच विभाजित करती है और कुछ हिस्सा निवेश के रूप में सुरक्षित रखती है।

दोनों ही स्थितियों में शेयर धारकों को दिए जाने वाले कुल लाभ के द्वारा ही डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) का सही आकलन किया जाता है। डिविडेंड पेआउट रेशो (भुगतान के अनुपात) को प्रतिशत में अभिव्यक्त किया जाता है।

डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) का सूत्र एवं आकलन:

यदि संपूर्ण लाभ शेयरधारकों के बीच विभाजित किया जाता है:

डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) = कुल डिविडेंड/कुल लाभ x 100

यदि संपूर्ण लाभ का कुछ भाग प्रतिधारित आय के रूप में रखा जाता हो:

डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात )= कुल डिविडेंड/कुल लाभ – प्रतिधारित आय x 100

पढ़ें: यह है भारत के उन्नत ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म

डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) की गणना का मुख्य उद्देश्य क्या है?

डिविडेंड पेआउट रेशों (लाभांश भुगतान अनुपात) की गणना का मुख्य उद्देश्य शेयर धारकों को दिए जाने वाले लाभांश को स्थिरता प्रदान करना है। डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) कंपनी के शेयरधारकों को प्राप्त होने वाले कुल लाभ का प्रतिशत दर्शाता है।

यदि किसी कंपनी का डिविडेंड पेआउट रेशों (लाभांश भुगतान अनुपात) 33% से लेकर 66% के बीच हो तो यह कंपनी की सुदृढ़ आर्थिक स्थिति को दर्शाता है।

यदि किसी कंपनी का डिविडेंड पेआउट रेशो (लाभांश भुगतान अनुपात) नेगेटिव (ऋणात्मक) तो यह कंपनी की खराब आर्थिक स्थिति को दर्शाता है। यदि कोई कंपनी आर्थिक हानि से जूझ रही हो परंतु उसके बावजूद भी अपने शेयरधारकों को लाभांश प्रदान कर रही हो तो उस स्थिति में डिविडेंड पेआउट रेशों (लाभांश भुगतान अनुपात) की गणना नेगेटिव (ऋणात्मक) आती है।

पढ़ें: एंजेल ब्रोकिंग डीमैट अकाउंट कैसे खोलें

डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) का क्या अर्थ?

डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) यह दर्शाता है कि कोई कंपनी प्रत्येक वर्ष बेचे गए शेयर के मूल्य के एवज में कितना लाभांश प्रदान करती है। डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) का अर्थ कंपनी के नवीनतम वार्षिक लाभांश प्रति शेयर और शेयर के वर्तमान मूल्य का अनुपात है।
डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) का सूत्र एवं आकलन:

डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय)= नवीनतम वार्षिक लाभांश / शेयर का वर्तमान मूल्य

डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) की गणना का मुख्य उद्देश्य क्या है?

डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) की गणना का मुख्य उद्देश्य शेयर धारक को सुनिश्चित करती है कि कंपनी उसे उचित लाभांश प्रदान कर रही है अथवा नहीं। यदि कंपनी द्वारा शेयरधारकों को प्रदान किए जाने वाले लाभांश में वृद्धि होती है तो डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) में भी वृद्धि होती है इसके विपरीत यदि कंपनी द्वारा शेयरधारकों को प्रदान यह जाने वाले लाभांश में गिरावट आती है तो डिविडेंड यील्ड(लाभांश आय) में भी गिरावट आती है। इस प्रकार डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) शेयर धारक को प्राप्त होने वाले लाभांश की सही जानकारी प्रदान करता है।

किसी निवेशक के लिए यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि किसी भी कंपनी में निवेश करने से पूर्व उस कंपनी की केवल नवीनतम वर्ष की ही डिविडेंड यील्ड (लाभांश आय) नहीं अपितु पिछले 5 वर्षों की औसतन डिविडेंड यील्ड(लाभांश आय) की जानकारी होनी चाहिए। साथ ही निवेश के लिए अत्यंत पहलुओं पर भी विचार विमर्श करना अनिवार्य होता है जैसे कि कंपनी की इन्वेस्टमेंट पॉलिसी (निवेश नीति), डिविडेंड पॉलिसी (लाभांश नीति) तथा इकोनॉमिक कंडीशन (आर्थिक स्थिति)।

डिविडेंड प्रक्रिया किस प्रकार कार्य करती है?

डिविडेंड प्रक्रिया निम्न प्रकार कार्य करती है:

  • डिक्लेरेशन डेट (घोषणा तिथि): डिक्लेरेशन डेट (घोषणा तिथि) वह तिथि होती है जिसमें निदेशक मंडल द्वारा स्वीकृत लाभांश की शेयरधारकों को अदायगी सुनिश्चित की जाती है जिसके परिणाम स्वरूप कंपनी की शेयरधारकों के प्रति देनदारी सुनिश्चित हो जाती है।
  • इन-डिविडेंड डेट (चरम लाभांश तिथि): इन-डिविडेंड डेट (चरम लाभांश तिथि) वह सीमित तिथि होती है जिसके अंतर्गत वर्तमान शेयर धारक एवं नए शेयर धारक जिन्होंने उस निश्चित तिथि से पूर्व या उस निश्चित तिथि पर शेयर खरीदे है वे कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभांश से लाभान्वित होते हैं। वे शेयर धारक जो उस निश्चित तिथि से पूर्व अथवा निश्चित विधि पर शेयर बेचते हैं वे कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभांश से लाभान्वित नहीं हो सकते हैं।
  • एक्स-डिविडेंड डेट (अतिरिक्त लाभांश तिथि): एक्स डिविडेंड डेट (अतिरिक्त लाभांश तिथि) वह सीमित तिथि होती है जिसके अंतर्गत वर्तमान शेयर धारक एवं वे शेयर धारक जिन्होंने उस निश्चित तिथि के बाद शेयर बेचे हैं वे कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभांश से लाभान्वित होते हैं। वे शेयर धारक जो उस निश्चित तिथि के बाद शेयर खरीदते हैं वह कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले लाभांश से लाभान्वित नहीं हो सकते हैं।
  • बुक क्लोजर डेट (बहीखाता समापन तिथि): क्लोजर डेट (बहीखाता समापन तिथि) वह तिथि होती है जिसमें शेयर कि किसी भी प्रकार की खरीद फरोख्त नहीं की जाती है।
  • रिकॉर्ड डेट (अभिलेख तिथि): रिकॉर्ड डेट (अभिलेख तिथि) वह तिथि होती है जिसमें उन शेयरधारकों को सूचीबद्ध किया जाता है जिन्हें कंपनी द्वारा लाभांश प्रदान किया जाना है।
  • पेमेंट डेट (भुगतान तिथि): पेमेंट डेट (भुगतान तिथि) वह तिथि होती है जिसमें सूचीबद्ध शेयरधारकों को उनके शेयर की संख्या के अनुपात में लाभांश प्रदान किया जाता है।

डिविडेंड कैसे मिलता है?

शेयरधारकों को प्रदान किए जाने वाले लाभांश की आवृत्ति कई प्रकार की होती है जैसे कि मासिक, त्रैमासिक, अर्धवार्षिक अथवा वार्षिक। शेयरधारकों को प्रदान किए जाने वाले लाभांश की आवृत्ति कंपनी के प्रबंधन द्वारा सुनिश्चित की जाती है।

रिटेंशन रेशो (प्रतिधारित अनुपात) का क्या अर्थ है?

रिटेंड इनकम (प्रतिधारित आय) लाभ का वह भाग होता है जो कंपनी द्वारा पुनर्निवेश में किया जाता है।

रिटेंशन रेशो (प्रतिधारित अनुपात)का सूत्र एवं आकलन:

  • रिटेंड इनकम (प्रतिधारित आय)= कुल लाभ- कुल डिविडेंड
  • रिटेंशन रेशो (प्रतिधारित अनुपात)= (कुल लाभ- कुल डिविडेंड) / कुल लाभ

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.