पॉलिसी सरेंडर नियम: अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और जवाब

पॉलिसी सरेंडर नियम: अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और जवाब

क्या आप अपनी बीमा पॉलिसी बंद करना चाहते हैं? क्या आपके मन में पॉलिसी सरेंडर से संबंधित कुछ सवाल है? क्या आपको पता है पॉलिसी सरेंडर करने के क्या फायदे हैं और क्या नुकसान? क्या आप निर्णय नहीं कर पा रहे हैं कि आपको पॉलिसी बंद करनी चाहिए या नहीं? अगर आपके मन में ऐसे सवाल हैं तो यहां हम पॉलिसी सरेंडर नियम से संबंधित कुछ सवालों और जवाबों पर चर्चा करेंगे।

बीमा अप्रत्याशित घटनाओं के खिलाफ आर्थिक रूप से खुद को बचाने के लिए एक अच्छा तरीका है। आधुनिक बीमा उत्पादों को बीमा सुरक्षा के साथ-साथ अपने भविष्य के वित्तीय लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करने के लिए तैयार किया जाता है।

आम तौर पर, हम 15-20 साल की लंबी अवधि के लिए जीवन बीमा पॉलिसियां ​​खरीदते हैं। कुछ संभावनाएं हैं कि बीमित व्यक्ति इस अवधि में प्रीमियम का भुगतान करने में असमर्थ हो सकता है या वह महसूस कर सकता है कि वर्तमान बीमा पॉलिसी उसकी बीमा आवश्यकताओं से मेल नहीं खाती है।

ऐसी स्थितियों में, पॉलिसीधारक पॉलिसी सेरेंडर नियमों के अनुसार मौजूदा बीमा पॉलिसी का आत्मसमर्पण करने या इसे किसी नई पॉलिसी से बदलने के बारे में सोच सकता है जो उसके बजट और भविष्य की जरूरतों के साथ मिलती हो।

अपनी पॉलिसी बंद करने से पहले आपको पॉलिसी सरेंडर नियम, शर्तें, और उससे जुड़ी हुई शब्दावली का पता होना चाहिए। इस पोस्ट में हम कुछ महत्वपूर्ण बातों पर चर्चा करेंगे जो आपको पॉलिसी सरेंडर करने से पहले पता होनी चाहिए।

लंबे समय तक प्रीमियम का भुगतान करने के बाद पॉलिसी आत्मसमर्पण करने का निर्णय अच्छा नहीं माना जाता क्योंकि बीमित व्यक्ति को ऐसा करने पर अपने अदा किए गए प्रीमियम का बहुत छोटा हिस्सा वापिस मिलता है।

नीचे हम इंश्योरेंस पॉलिसी सेरेंडर से संबंधित पॉलिसी सरेंडर नियम और अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और जवाब दे रहे हैं। जिनसे आपको यह निर्णय करने में आसानी होगी कि आपको पॉलिसी बंद करनी चाहिए या अन्य विकल्पों के बारे में सोचना चाहिए।

बीमा पॉलिसी सरेंडर नियम: अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और जवाब – Policy Surrender FAQs

पॉलिसी सरेंडर नियम

जीवन बीमा पॉलिसी आत्मसमर्पण करने के फायदे

  • अत्यधिक बीमा कवर होने से कोई ज्यादा फायदा नहीं होता है। ऐसा करके आप अपने आप पर अनावश्यक बोझ डाल रहे हैं। इसलिए यदि आपके पास एक से अधिक बीमा पॉलिसी हैं और आपको लगता है कि आपको उन सभी की आवश्यकता नहीं है तो आप एक बीमा पॉलिसी रख सकते हैं और बाकी को बंद कर सकते हैं (जिनकी आपको लगता है कि आपको आवश्यकता नहीं है)।
  • यदि आपकी पॉलिसी आपकी भविष्य की जरूरतों को पूरा नहीं करती है तो आप बीमा पॉलिसी सरेंडर करने के बारे में सोच सकते हैं या पॉलिसी सेरेंडर नियमों के अनुसार अपनी पॉलिसी को बंद किए बिना दूसरे बीमा प्लान में कन्वर्ट कर सकते हैं।
  • अगर बीमा एजेंट द्वारा आपको गलत पॉलिसी बेज दी गई है तो आपके पास 15 दिन का फ्री-लुक पीरियड होता है जिसमें आप अपनी पॉलिसी वापिस करके अपने पैसे वापस ले सकते हैं। आईआरडीएआई के पॉलिसी सरेंडर नियम के तहत अगर कोई पॉलिसीधारक इस समय के दौरान अपनी पॉलिसी वापिस करता है तो उसे उसका पूरा प्रीमियम वापस दिया जाना चाहिए।

जीवन बीमा पॉलिसी आत्मसमर्पण करने के नुकसान

  • किसी निश्चित अवधि के लिए प्रीमियम का भुगतान करने के बाद किसी को अपने बीमा अनुबंध को समाप्त नहीं करना चाहिए। जीवन बीमा पॉलिसी को समाप्त करने के कई नुकसान हैं जैसे कि याद रखें कि आपको केवल अपनी पॉलिसी के सेविंग के हिस्से को ही सरेंडर वैल्यू के रूप में दीया जाता है।
  • कुछ कटौती के बाद आपको सरेंडर वैल्यू मिलता है: पॉलिसी छोड़ने की फीस (सरेंडर चार्जर्स) और प्रथम वर्ष के प्रीमियम को छोड़कर (कुछ नीतियों में)।
  • याद रखें कि सभी जीवन बीमा सरेंडर वैल्यू के साथ नहीं आते। जिन पॉलिसियों में बचत का ऑप्शन होता है वही पॉलिसी सरेंडर वैल्यू या कैश वैल्यू के साथ आती है।

ज्यादा जानकारी के लिए इस पोस्ट को पढ़ें “जीवन बीमा पॉलिसी सेरेंडर करने के लाभ और नुकसान।”

पढ़िए: शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

सरेंडर वैल्यू या कैश वैल्यू क्या होती है?

सरेंडर वैल्यू वह राशि है जो पॉलिसीधारक को बीमाकर्ता से प्राप्त होती है जब वह परिपक्वता से पहले स्वेच्छा से पॉलिसी अनुबंध को समाप्त करता है। पॉलिसीधारक के अपनी पॉलिसी को जारी रखने के लिए अनिच्छुक होने पर वह पॉलिसी सेरेंडर नियमों के अनुसार अपनी पॉलिसी को सरेंडर कर देता है।

अगर उसकी पॉलिसी निवेश घटकों के साथ आती है तो उसे सरेंडर वैल्यू के रूप में कुछ पैसे मिल जाते है।

गारंटीड सरेंडर वैल्यू क्या होती है?

पॉलिसीधारक को पॉलिसी आत्मसमर्पण करने के बाद प्राप्त होने वाली न्यूनतम राशि को गारंटीड सरेंडर वैल्यू कहा जाता है। निवेश घटकों के साथ आने वाली पॉलिसी में जब कोई व्यक्ति निश्चित समय तक अपना प्रीमियम भरता है और उसके बाद प्रीमियम भरना बंद कर देता है तो पॉलिसी सेरेंडर करने पर बीमा कंपनी द्वारा पॉलिसी सरेंडर नियम के तहत उसे गारंटीड सरेंडर वैल्यू के रूप में कुछ मुआवजा मिलता है।

कानूनी रूप से यदि पॉलिसीधारक द्वारा निर्दिष्ट अवधि के लिए प्रीमियम का भुगतान किया गया है तो बीमा कंपनी को उसे गारंटीड सरेंडर वैल्यू के रूप में कुछ मुआवजा देना होगा; यदि पॉलिसीधारक अपने पॉलिसी अनुबंध को लागू करने में विफल रहता है।

क्या सभी जीवन बीमा पॉलिसियां ​​सरेंडर वैल्यू प्राप्त करती हैं?

नहीं, केवल निवेश के विकल्प के साथ आने वाली पॉलिसियों में ही सरेंडर वैल्यू होती है। शुद्ध सुरक्षा बीमा उत्पाद जैसे कि टर्म लाइफ इंश्योरेंस समर्पण मूल्य प्रदान नहीं करते हैं।

जीवन बीमा पॉलिसी आत्मसमर्पण करने से पहले अन्य विकल्प

पॉलिसी सरेंडर नियम के तहत कई जीवन बीमा पॉलिसी पार्शियल विड्रोल और ऋण सुविधाएं इत्यादि प्रदान करती हैं। आप अपनी पॉलिसी आत्मसमर्पण किए बिना अपनी वित्तीय जरूरतों को पूरा करने के लिए इन सुविधाओं का उपयोग कर सकते हैं।

इस विषय पर हमने एक अलग से पोस्ट लिखा है जिसमें संक्षेप में बताया गया है कि हम अपनी पॉलिसी सरेंडर किए बिना अपनी आर्थिक जरूरतों को कैसे पूरा कर सकते हैं ज्यादा जानकारी के लिए यहां क्लिक करें।

पढ़िए: ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

पॉलिसी सरेंडर वैल्यू की गणना कैसे करें?

आत्मसमर्पण मूल्य की गणना करना आपकी बीमा योजना पर निर्भर करता है। इसका कोई निर्धारित फार्मूला नहीं है। बीमाकर्ता प्रत्येक व्यक्ति की बीमा जरूरतों को पूरा करने के लिए बीमा उत्पादों की सत्यता प्रदान करते हैं।

इसलिए पैरामीटर जैसे बीमा का प्रकार और योजना, बीमा पॉलिसी की आयु, बोनस (यदि कोई हो), और पॉलिसी अवधि इत्यादि सरेंडर मूल्य की गणना करने के लिए उपयोग की जाती है।

लगभग सभी बीमाकर्ताओं के पास चार्ट होते हैं जो पॉलिसी की आयु के हिसाब से दर्शाते हैं कि कितनी सरेंडर वैल्यू मिलेगी। इसलिए, आपको विवरण प्राप्त करने के लिए अपने बीमाकर्ता की वेबसाइट पर जाना चाहिए या समर्पण मूल्य की गणना करने के लिए सटीक विधि प्राप्त करने के लिए अपने बीमाकर्ता को कॉल करना चाहिए। जानकारी पॉलिसी दस्तावेजों के पॉलिसी सरेंडर नियम सेक्शन में भी हो सकती है।

आप अपने बीमा एजेंट से भी सहायता ले सकते हैं क्योंकि बीमा एजेंट की जिम्मेदारी पॉलिसी बेचने तक नहीं होती उसकी जिम्मेदारी जब तक पॉलिसी पूरी ना हो जाए तब तक रहती है।

क्या मुझे पूरा बीमा प्रीमियम वापस मिल सकता है?

हां, भारतीय बीमा अधिनियम के अनुसार, पॉलिसीधारक को पॉलिसी वापस करने के लिए 15 दिन की फ्री-लुक-अवधि प्राप्त होती है।

फ्री-लुक पीरियड में पॉलिसीधारक यह तय कर सकता है कि उसको पॉलिसी रखनी है या नहीं। अगर बीमाधारक चाहे तो इस अवधि में अपनी पॉलिसी वापस करके अपना अदा किया गया प्रीमियम वापिस ले सकता है।

फ्री-लुक-अवधि की समाप्ति के बाद, पॉलिसीधारक को सरेंडर वैल्यू प्राप्त करने के लिए कम से कम 2-5 वर्ष के प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है।

यदि मैंने निर्दिष्ट अवधि (3 साल या 5 साल असली समय पॉलिसी पर निर्भर करता है) के लिए प्रीमियम का भुगतान नहीं किया हो तो क्या मुझे सरेंडर वैल्यू मिल सकती है?

आम तौर पर, अगर बीमाधारक लॉक-इन अवधि से पहले पॉलिसी आत्मसमर्पण करता है तो वह आत्मसमर्पण मूल्य प्राप्त करने के लिए उत्तरदायी नहीं होता है।

हालांकि, कुछ पॉलिसी सरेंडर वैल्यू की पेशकश करती हैं अगर बीमाकृत लॉक-इन अवधि की समाप्ति से पहले अपने अनुबंध को समाप्त कर देता है।

लेकिन, बीमाकर्ता लॉक-इन अवधि के बाद बीमाकृत व्यक्ति को कैश वैल्यू देता है। उदाहरण के लिए मान लें कि 2 साल के लिए प्रीमियम का भुगतान करने के बाद, जॉन ने 01/01/2018 को अपनी पॉलिसी आत्मसमर्पण कर दी और उनकी पॉलिसी की लॉक-इन अवधि 5 साल थी।

अब उनकी पॉलिसी 01/01/2018 को समाप्त हो जाएगी। लेकिन लॉक-इन अवधि 5 साल की है। तो इस हिसाब से जॉन उनको बीमा कंपनी 5 साल के बाद आत्मसमर्पण मूल्य मिलेगा।

ऐसा बहुत कम बीमा कंपनियां करती है। ज्यादातर कंपनियां लॉक-इन पीरियड से पहले पॉलिसी बंद करने पर कुछ नहीं देती। ज्यादा जानकारी के लिए अपने बीमाकर्ता से संपर्क करें और पॉलिसी सेरेंडर नियमों के बारे में जाने।

मैं जीवन बीमा पॉलिसी सरेंडर कैसे करूं?

अपने बीमाकर्ता की नजदीकी शाखा पर जाएं और पॉलिसी आत्मसमर्पण करने के लिए फॉर्म भरें। आवश्यक दस्तावेज संलग्न करें; अगर फॉर्म में पूछा जाता है।

आप अपने बीमाकर्ता की वेबसाइट पर जा सकते हैं क्योंकि आजकल कई बीमा कंपनियां परेशानी मुक्त और सुविधाजनक सेवाएं प्रदान करने के लिए ऑनलाइन सेवाएं प्रदान करती हैं। आप ऑनलाइन भी पॉलिसी सरेंडर फॉर्म भर सकते हैं।

अपनी पॉलिसी सरेंडर करने से पहले पॉलिसी सरेंडर नियम ध्यान से पढ़ें।

बीमा पॉलिसी बंद कैसे करें हमने इसके लिए एक अलग पोस्ट भी लिखा है आप वह पोस्ट पढ़ सकते हैं।

पार्शियल विड्रोल क्या होता है?

जब आप लॉक-इन अवधि तक अपना इंश्योरेंस प्रीमियम भरते रहते हैं तो उसके बाद आपकी बीमा कंपनी आपको आपकी जमा राशि का कुछ हिस्सा पार्शियल विड्रोल के रूप में निकलवाने देती है।

इस तरह लॉक-इन अवधि के बाद अपनी जमा राशि में से कुछ हिस्सा निकलवाने को हम पार्शियल विड्रोल कहते हैं। आमतौर पर पच्चीस से तीस प्रतिशत तक का पार्शियल विड्रोल किया जा सकता है।

क्या TDS लगेगा?

हां. चाहे पार्शियल विड्रोल हो या पॉलिसी सेरेंडर जो भी राशि आपको मिलेगी उस पर टैक्स डिडक्शन एट सोर्सेज (TDS) देना पड़ेगा।

पॉलिसी पूरी तरह बंद कब होगी?

अगर आप अपनी पॉलिसी को सरेंडर कर देते हैं तो आपकी पॉलिसी बंद हो जाएगी। या आप अपनी पॉलिसी का प्रीमियम ग्रेस-पीरियड (Grace-period) के बाद भी नहीं भरते हैं तो आपकी पॉलिसी बंद हो जाएगी।

क्या पॉलिसी बंद होने के बाद सरेंडर की जा सकती है?

नहीं. एक बार पॉलिसी बंद हो जाए तो इसे दोबारा प्रीमियम भर के चलाना पड़ता है और उसके बाद ही आप पॉलिसी को सरेंडर कर पाएंगे।

बीमा कंपनी हर ग्राहक को ग्रेस-पीरियड देती है जो कि आमतौर पर 30 दिन का होता है। अगर उसके बाद भी ग्राहक प्रीमियम नहीं भरता है तो कंपनी को मजबूरन पॉलिसी बंद करनी पड़ती है।

लेकिन पॉलिसी बंद होने के बाद भी बीमा कंपनी ग्राहक को प्रीमियम भरके पॉलिसी दोबारा चालू करने की अनुमति देती है।

बीमा में असाइनमेंट क्या है?

असाइनमेंट में आप अपनी पॉलिसी किसी और व्यक्ति के नाम पर कर देते हैं। जिससे की पॉलिसी पर कोई असर नहीं पड़ता और इसका सम इंश्योर्ड भी वहीं रहता है जो पहले था बस पॉलिसी एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के नाम हो जाती है।

अंतिम शब्द

परिपक्वता से पहले जीवन बीमा पॉलिसी आत्मसमर्पण अच्छा निर्णय नहीं माना जाता; विशेष रूप से यदि आपके पास अपनी आर्थिक जरूरतों को पूरा करने के लिए पार्शियल विड्रोल, लोन, पेड-अप पॉलिसी, और पॉलिसी कन्वर्ट करने जैसे विकल्प होते हैं।

कुछ बीमा पॉलिसी आपको अपनी प्रीमियम दरों को कम करने की अनुमति देती हैं। आप अपने बीमाकर्ता से पूछ सकते हैं कि क्या आपकी नीति आपको ऐसा करने की अनुमति देती है। पॉलिसी को पूरी तरह बंद करने की बजाय प्रीमियम कम भी किया जा सकता है।

अगर आपका कोई प्रश्न हो जिसका उत्तर इस पोस्ट में नहीं मिला है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं।

“पॉलिसी सरेंडर नियम: अक्सर पूछे जाने वाले सवाल और जवाब” के लिए प्रतिक्रिया 15

  1. मेरी पौलिसी एचडीएफसी में मैच्योर हो चुकी है एजेन्ट द्वारा बताया गया था कि मैच्योरिटी के बाद बहुत बड़ी धनराशि मिलेगी लेकिन अब पौलिसी एग्रीमेंट को ध्यानपूर्वक पढ़ा है तो पता चला कि 1/3 भाग ही 5% टैक्स काटकर मिलेगी । शेष धनराशि पैंशन के रुप में मिलेगी ।
    मैं पैंशन नहीं लेना चाहता क्योंकि वह बहुत कम धनराशि है क्या पूरी धनराशि प्राप्त करने का नियम है ?
    एचडीएफसी के वर्कर ने बताया है कि आपको पौलिसी मैच्योरिटी की तारीख से पहले सिरेंडर कर देनी थी अब मैच्योरिटी के तदोपरांत मैडीकल लगाकर ही शायद पूरी धनराशि मिल सकती है
    मैडीकल बनवा रहा हूँ क्या पूरी धनराशि मिल सकती है ?

  2. मेने 2 वर्ष पूर्व 2 पॉलिसी करवाई थी लेकिन अब में बंद करना चाहती हु तो में कैसे करूँ। plzz बताये

  3. Mera max life policy hai mai policy ka first premium jama kiya hai 3 year se koi premium jama nahi kiya hai kya mera premium bapas mil sakta hai mera axis bank me 5 lak loan mila tha mujhe bank manager me kha 5 lak aapke account me bank degi aapko 1 policy karani padegi mujhe majboori me policy lene padi mere loan me policy ka premium kat liya gaya maine policy me first premium I baad koi premium jama nahi kiya hai 3 year se upper time ho gaya mujhe mera paisa.bapas mil sakta hai

  4. Kisi company SE first Term plan insurance ko band kerke same company SE second term plan mil Sakta hai kya and first term ko surrender kerna Chahiye ya premium na dene per Apne aap band Kar de . Term Apne aap band hone per customer value Kam to Nahi Hoti

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.