बीमा एजेंट कैसे बने? इंश्योरेंस एजेंट बनने की प्रक्रिया

बीमा एजेंट कैसे बने? इंश्योरेंस एजेंट बनने की प्रक्रिया

क्या आप बीमा एजेंट बनना चाहते हैं? अगर हां, तो इस पोस्ट में हम आपको विस्तार से बताएंगे कि कैसे आप किसी बीमा कंपनी के प्रतिनिधि बनकर बीमा पॉलिसी बेच सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं।

चाहे आप जीवन बीमा एजेंट बनना चाहते हो या वाहन बीमा एजेंट या हेल्थ इंश्योरेंस एजेंट इस पोस्ट में दी गई जानकारी को आप पढ़ सकते हैं। क्योंकि एजेंट बनने की प्रक्रिया सभी के लिए एक समान है।

इंश्योरेंस एजेंट कैसे बने

सबसे पहले हम कुछ सवाल और जवाब देख लेते हैं जिनकी मदद से आपको ज्यादा आसानी से पता चल जाएगा कि आपको इस पेशे में आना चाहिए या नहीं।

बीमा एजेंट का क्या काम होता है?

बीमा एजेंट किसी बीमा कंपनी द्वारा मान्यता प्राप्त व्यक्ति होता है जिसको की ग्राहक की जरूरत के हिसाब से इंश्योरेंस पॉलिसी बेचने के लिए पर्याप्त ट्रेनिंग दी जाती है। बीमा एजेंट का काम संभावित ग्राहक के पास जाकर उसे इंश्योरेंस पॉलिसी लेने के लिए राजी करना होता है।

जैसे कि आप जानते ही होगे कि बीमा हमारी जिंदगी में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है जैसे कि जीवन बीमा बीमित की मृत्यु के बाद उसके परिवार को मुआवजा देता है जिससे कि परिवार आसानी से अपनी जिंदगी व्यतीत कर सकता है और इसी तरह वाहन बीमा दुर्घटना की स्थिति में दुर्घटना में होने वाले नुकसान की क्षतिपूर्ति करता है।

अगर आपको बीमा के बारे में नहीं पता है तो ज्यादा जानकारी के लिए यह पोस्ट को पढ़ें।

पढ़िए: शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

बीमा एजेंट कैसे पैसे कमाता है?

जब कोई इंश्योरेंस एजेंट एक बीमा उत्पाद बेचता है तो ग्राहक द्वारा दिए गए प्रीमियम में से बीमा कंपनी उसे 10% से लेकर 35% तक कमीशन देती है। यही नहीं जब तक पॉलिसी चलती रहती है उसे हर साल प्रीमियम में से उसका प्रतिशत मिलता रहता है।

उदाहरण के लिए मान लीजिए आपने एक बीमा पॉलिसी बेची है जिसकी अवधि 15 साल है। ऐसी स्थिति में 15 साल तक जितनी बार भी ग्राहक प्रीमियम भरेगा आपको उसमें से तय किया गया कमीशन मिलता रहेगा।

तो एक इंश्योरेंस एजेंट कितना कमा सकता है?

यह इंश्योरेंस एजेंट की क्षमता पर निर्भर करता है। जितनी पॉलिसी वह बेचगा उतना ही कमीशन उसको मिलेगा। उसके बाद बेची गई पॉलिसी की जितनी भी अवधी होगी तब तक उसे उसका कमीशन मिलता रहेगा। कुछ एजेंट महीने का लाखों कमाते हैं, कुछ हजारों और कुछ कल्पना से ज्यादा।

क्या योग्यता होनी चाहिए?

कोई भी बीमा एजेंट बन सकता है। इसके लिए कोई ज्यादा योग्यता की जरूरत नहीं होती है। अगर आपके पास नीचे दी गई योग्यताएं है तो आप एक एजेंट बन सकते हैं:

  • एक बीमा एजेंट बनने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के उम्मीदवार ने कम से कम दसवीं की परीक्षा पास की होनी चाहिए और शहरी क्षेत्र के उम्मीदवार ने कम से कम 12वीं की परीक्षा पास की होनी चाहिए।
  • उम्मीदवार भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  • उसकी आयु 18 वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए।

बीमा एजेंट बनने के फायदे

  • अगर आप एक लचीला जीवन व्यतीत करना चाहते हैं जिसमें कब काम करना है और कब घूमना है यह तय करना सिर्फ आप पर निर्भर हो तो यह व्यवसाय आपके लिए बहुत लाभदायक होगा।
  • अगर आपको लोगों से मिलना बातें करना अच्छा लगता है तो यह प्रोफेशन आपके लिए है।
  • इसमें पैसा कमाने के असीमित मौके मिलते हैं यह आप पर निर्भर करता है कि आप कितना कमा सकते हैं।
  • जो इंश्योरेंस एजेंट अच्छा काम करते हैं कंपनी की ओर से उनको विदेश में घूमने के लिए सुविधाएं दी जाती है।
  • समय-समय पर आपको अच्छे अच्छे होटल्स में बुलाया जाता है जहां पर आप को ट्रेनिंग के साथ अच्छा खाना और अच्छा रहन-सहन दिया जाता है।
  • आप अपने खुद के बॉस बन जाते हैं कोई आप को रोक रोक नहीं सकता।
  • अगर आप कोई नौकरी कर रहे हैं तो उसके साथ साथ आप इस काम को भी शुरू कर सकते हैं। इस काम को करने के लिए आपको नौकरी छोड़ने की जरूरत नहीं है।

पढ़िए: ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

तो चलिए अब हम जानते हैं कि बीमा एजेंट कैसे बने

insurance agent kaise bane

जैसे कि ऊपर बताया गया है एक बीमा एजेंट बनने के लिए कोई ज्यादा योग्यता की जरूरत नहीं होती है।

लेकिन आप सीधे एक इंश्योरेंस एजेंट नहीं बन सकते। सबसे पहले आपको एक बीमा कंपनी को चुनना होगा जिसके बीमा उत्पाद आप बेचना चाहते हैं। उसके बाद आपको बीमा कंपनी से 50 घंटे की ट्रेनिंग लेनी होगी और उसके बाद भारतीय बीमा विनियामक और विकास प्राधिकरण (आईआरडीएआई) जो कि भारत में बीमा बाजार को चलाने वाली संस्था है की परीक्षा पास करनी पड़ेगी।

परीक्षा ज्यादा कठिन नहीं होती है लेकिन फिर भी नियमों के तहत आपको इसको पास करना जरूरी होता है। तो एक बीमा कंपनी के प्रतिनिधि बनने के लिए नीचे दिए गए चरणों का पालन करें।

  1. सबसे पहले एक कंपनी चुने जिसके बीमा उत्पाद आप बेचना चाहते। आपको कोई ऐसी कंपनी चलनी चाहिए जो कि आपके क्षेत्र में बहुत प्रचलित हो। ऐसी कंपनी के बीमा एजेंट बनने से आप आसानी से बीमा पॉलिसी बेच पाओगे क्योंकि कंपनी में लोगों का विश्वास पहले से ही होगा। आप एलआईसी, स्टार हेल्थ, रिलायंस, मैक्स बूपा, या कोई भी कंपनी चल सकते अगर आपको नहीं पता है कि भारत में कौन सी बीमा कंपनियां उपलब्ध है तो भारत की बीमा कंपनियों की सूची देखने के लिए यहां पर क्लिक करें।
  2. अभी एक कंपनी को चुनने के बाद आपको उसके नज़दीक के दफ्तर में जाना होगा और वहां पर डेवलपमेंट मैनेजर से मिलना होगा। डेवलपमेंट मैनेजर से कहें कि आप बीमा एजेंट बनकर उनकी कंपनी के उत्पाद बेचना चाहते हैं।
  3. कंपनी का मैनेजर आपसे कुछ प्रश्न पूछेगा जैसे कि आप बीमा एजेंट क्यों बनना चाहते हैं, आपकी योग्यता क्या है, और आप हमारी कंपनी के उत्पाद क्यों बेचना चाहते हैं। यह एक तरह की इंटरव्यू होगी जिसमें की मैनेजर यह तय करेगा कि क्या आप एक इंश्योरेंस एजेंट बनने के लायक हैं या नहीं।
  4. अगर कंपनी के प्रतिनिधि को लगा कि आप एक अच्छे बीमा एजेंट बन सकते हैं तो वह आपको कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाली ट्रेनिंग में शामिल कर लेगा। यह ट्रेनिंग 25 से 50 घंटे की होती है जो कि ज्यादातर शनिवार और रविवार को रखी जाती है।
  5. ट्रेनिंग के बाद आपको IRDAI (Insurance Regulatory and Development Authority of India) की परीक्षा IC 38 या IC 33 मे शामिल होकर उसको पास करना होगा। परीक्षा में वही सवाल पूछे जाएंगे जो आपको बीमा कंपनी द्वारा ट्रेनिंग में बताए गए होंगे।
  6. परीक्षा को पास करने के बाद बीमा कंपनी आपको एक लाइसेंस और पहचान पत्र जारी कर देगी।

बस हो गया! अब आप एक बीमा एजेंट बन चुके हैं और आप कंपनी द्वारा प्रदान किए जाने वाले बीमा उत्पाद बेच सकते हैं।

आईआरडीएआई द्वारा ली जाने वाली इंश्योरेंस एजेंट परीक्षा के संदर्भ में पूछे जाने वाले सवाल और जवाब

क्या मैं खुद आईआरडीएआई की परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकता हूं?

नहीं, आप ऐसा नहीं कर सकते। परीक्षा के लिए आपको किसी बीमा कंपनी के पास ही जाना होगा।

क्या मैं जीवन बीमा उत्पाद और सामान्य बीमा उत्पाद जैसे कि हेल्थ इंश्योरेंस, वाहन बीमा इत्यादि एक साथ बेच सकता?

आप ऐसा कर सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको कंपोजिट लाइसेंस की जरूरत पड़ेगी। साधारण रूप में जब आप किसी बीमा कंपनी के पास बीमा एजेंट बनने जाते हैं तो कंपनी आपको जीवन बीमा एजेंट या साधारण बीमा एजेंट का लाइसेंस जारी करती है।

लेकिन अगर कोई कंपनी दोनों तरह के उत्पाद बेचती है तो आप कंपनी के मैनेजर से आवेदन कर सकते हैं कि आपको कंपोजिट लाइसेंस दिया जाए। जिससे कि आप जीवन बीमा उत्पाद और सामान्य बीमा या गैर-जीवन बीमा उत्पाद एक साथ बेच सकें।

अगर आप इंश्योरेंस एजेंट बनने जा रहे हैं तो हो सके तो कंपोजिट लाइसेंस लेने की कोशिश करें। इसमें ट्रेनिंग थोड़ी ज्यादा होगी जैसे कि 75 घंटे की लेकिन इससे आपको ज्यादा फायदा होगा। इससे आप जीवन बीमा और गैर-जीवन बीमा जैसे कि वाहन बीमा उत्पाद बेच पाएंगे।

अगर आपका कोई प्रश्न है तो आप कमेंट बॉक्स में पूछ सकते।

“बीमा एजेंट कैसे बने? इंश्योरेंस एजेंट बनने की प्रक्रिया” के लिए प्रतिक्रिया 6

  1. क्या हेल्थ इंश्योरेंस टीपीए का एजेंट बन सकते हैं और हेल्थ इंश्योरेंस टीपीए पॉलिसीज देती है?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.