शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

आज मैं आपको विस्तार से बताऊंगा कि शेयर बाजार में कैसे निवेश करें। मैं यह लेख उन लोगों के लिए लिख रहा हूं जो शेयर मार्केट में निवेश करना शुरू करना चाहते हैं परंतु वे यह नहीं जानते कि शुरू कहां से करें?

यदि आप भी निवेश या व्यापार करना चाहते हैं परंतु यह नहीं जानते कि शेयर बाजार में निवेश करने की शुरुआत कहां से करें तो यह पोस्ट आपके लिए ही है। नीचे दी गई जानकारी को ध्यान से पढ़िए और मैं आपको यह विश्वास दिलाता हूं कि इसके बाद शुरुआत करने के लिए आपको कुछ और पढ़ने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।

यदि आप शेयर बाजार को अपने लिए व्यवसाय मान रहे हैं तो आपको यह आज ही सीखना शुरू कर देना चाहिए। शेयर मार्केट में कैसे निवेश करें यह सीखने के लिए आपको ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट खुलवाना होगा।

फिर आप शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए पूर्ण रूप से तैयार हो जाएंगे। एक बार आपके ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट खुल जाने पर आप इसे अपना व्यवसाय बना सकते हैं या अच्छे शेयर्स में निवेश करके धन अर्जित कर सकते हैं।

एक बार आप मूल बातें सीख जाने पर आप इससे धन अर्जित कर पाएंगे।

भारत में ट्रेडिंग कैसे शुरू करें?

भारत में ट्रेडिंग या शेयर बाजार में निवेश शुरू करने के लिए आपके पास निम्नलिखित चीजें होनी चाहिए:

  • ट्रेडिंग अकाउंट
  • डिमैट अकाउंट
  • शुरुआती पूंजी: इसके लिए कोई न्यूनतम सीमा नहीं है, आप ₹500 से भी शुरू कर सकते हैं (सिर्फ सीखने के उद्देश्य के लिए) ।
  • शेयर मार्केट की बुनियादी समझ जैसे कि शेयर्स का खरीदना बेचना,स्टॉप लॉस ऑर्डर लगाना और थोड़ा बहुत तकनीकी विश्लेषण।

आप यह सोच रहे होंगे की शुरुआत करने के लिए क्या यह सभी चीजें काफी है? जी हां शुरुआत करने के लिए आपको यही सारी चीजें चाहिए। अब मैं आपको एक-एक करके उन सभी चीजों से अवगत कराऊंगा जिनका उल्लेख ऊपर किया गया है।

इस जानकारी को पढ़ने के बाद आप शेयर मार्केट में प्रवेश करने के लिए पूर्ण रूप से तैयार हो जाएंगे। तो आइए अब शुरू करें और जाने कि शेयर बाजार में निवेश कैसे करते हैं।

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

यदि आप यह सीखना चाहते हैं कि शेयर मार्केट में कैसे निवेश किया जाता है तो यह 40 मिनट का वीडियो देखिए जिसमें मैंने बिल्कुल शुरुआत से समझाया है। मैं आपसे यह निवेदन करता हूं की पूरा वीडियो बिना 1 सेकंड छोड़े ध्यानपूर्वक देखें।

यह वीडियो देखने के बाद ना सिर्फ आप यह सीख पाएंगे कि कैसे शेयर बाजार में प्रवेश करें बल्कि यह भी सीख पाएंगे कि कैसे असल में धन अर्जित करें।

हजारों दर्शक यह वीडियो देख चुके हैं तथा स्टॉक मार्केट में निवेश करना सीख चुके हैं।आप में से वह लोग जो पढ़ना जारी रखना चाहते हैं वे पढ़ना जारी रख सकते हैं।ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट भारत में कहां और कैसे खोलें? शेयर मार्केट में निवेश शुरू करने के लिए आपको ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट खोलना होगा।

शेयर बाजार ट्रेडिंग के लिए यह अति आवश्यक है। अपने हाल के ही पोस्ट में मैंने आपको भारत के सफलतम स्टॉक ब्रोकर्स की एक सूची दिखाई थी जिनके साथ आप अपना ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं।

मैं यह सूची यहां भी दिखा रहा हूं:

  • Angel Broking (एंजल ब्रोकिंग): शुरुआती वर्ष के लिए फ्री डिमैट अकाउंट का प्रस्ताव, शुरू के 30 दिनों के लिए फ्री ब्रोकरेज, और हर आर्डर पर ₹20 ब्रोकरेज, उन्नत ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, फ्री इक्विटी डिलीवरी, फ्री लर्निंग प्लेटफॉर्म।
  • Zerodha (जीरोधा): उन्नत चार्टिंग और ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म, फ्लैट ₹20 ब्रोकरेज प्रति ऑर्डर, मुफ्त इक्विटी डिलीवरी ऑर्डर, भुगतान सेवाओं और शिक्षण मंच तक मुफ्त सीमित पहुंच।
  • Upstox (अपस्टॉक्स): हर ऑर्डर पर ₹20 ब्रोकरेज, उन्नत ट्रेडिंग प्लेटफार्म, फ्री इक्विटी डिलीवरी, सशुल्क पाठ्यक्रम के लिए सीमित निशुल्क पहुंच।

अपना ट्रेडिंग और डिमैट अकाउंट खोलने के लिए आप इनमे से किसी पर भी क्लिक कर सकते हैं। अकाउंट खोलने की प्रक्रिया में केवल 15 मिनट लगते हैं। हां, केवल 15 मिनट के अंदर आप भारत में अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं।

जिन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म्स कि मैं सिफारिश कर रहा हूं वह भारत के पांच उच्चतम स्टॉक ब्रोकर्स में से एक है। इनका खाता रखरखाव तथा ब्रोकरेज शुल्क बहुत कम है और रिटेल निवेशक की पहुंच में है। इनके ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म उन्नत तथा प्रयोग करने में आसान हैं।

ऊपर उल्लेखित स्टॉक ब्रोकर में कैसे अपना डिमैट अकाउंट खोला जाए, इससे संबंधित कई पोस्ट मैं पहले भी लिख चुका हूं यदि आप क्रमवार डीमेट अकाउंट खोलने की प्रक्रिया के बारे में जानना चाहते हैं तो उससे संबंधित पोस्ट के लिंक यहां दिए गए हैं।

  • एंजल ब्रोकिंग अकाउंट कैसे खोलें
  • जीरोधा में डीमेट अकाउंट कैसे खोलें
  • अपस्टॉक्स ट्रेडिंग अकाउंट कैसे खोलें

अपना ट्रेडिंग अकाउंट खोलने के लिए आपको आधार कार्ड, बैंक अकाउंट और पैन कार्ड का विवरण प्रदान करना होगा। आज डिमैट अकाउंट खोलना बहुत ही सरल है और जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है की इसमें केवल 15 मिनट लगते हैं।

इस पोस्ट में मैं डीमैट अकाउंट खोलने की प्रक्रिया नहीं समझा रहा हूं क्योंकि इसको अलग पोस्ट मैं पहले ही लिख चुका हूं। यदि आप स्टॉक ब्रोकर्स के चयन को लेकर उलझन में हैं तो मैं आपसे यह निवेदन करता हूं कि आप इन पंक्तियों पर महत्व दीजिए:

एंजल ब्रोकिंग: आपको अपना अकाउंट एंजल ब्रोकिंग के साथ खोलना चाहिए यदि आप मोबाइल से ट्रेडिंग करना चाहते हैं। अभी तक मैंने एंजल ब्रोकिंग जैसा अति उन्नत मोबाइल ट्रेडिंग ऐप नहीं देखा हैं। इसलिए मैं आपसे यह अनुग्रह करता हूं कि आप अपना अकाउंट इनके साथ ही खोलें यदि आप मोबाइल से ट्रेडिंग करना चाहते हैं।

जीरोधा और अपस्टॉक्स: आपको अपना डीमैट अकाउंट जीरोधा या अपस्टॉक्स के साथ खोलना चाहिए यदि आप लैपटॉप या कंप्यूटर से ट्रेडिंग करना चाहते हैं।

ट्रेडिंग आरंभ करने के लिए शुरुआती पूंजी

एक बार आपका ट्रेडिंग अकाउंट खुल जाने के बाद, आपको एक क्लाइंट आईडी और पासवर्ड प्राप्त होगा,अब आपका अगला कदम है इसमें निवेश करना जिसके द्वारा आप असली ट्रेड कर पाए। आपकी जानकारी के लिए मैं बता दूं कि ट्रेडिंग करने के लिए आपको लाखों रुपए की जरूरत नहीं है।

जैसा कि मैंने पहले भी उल्लेख किया है कि ₹500 से भी शुरू कर सकते हैं। परंतु जाहिर तौर पर ₹500 से हम कुछ कमा नहीं सकते हैं केवल शेयर खरीदना बेचना और स्टॉप लॉस ऑर्डर लगाना सीख सकते हैं।

तो हमें अपने ट्रेडिंग अकाउंट में कितनी पूंजी लगानी चाहिए?

देखिए यह केवल और केवल आपकी आर्थिक स्थिति के ऊपर निर्भर करता है परंतु मेरा व्यक्तिगत सुझाव यह है की आपको ₹5000 से ₹10000 से शुरू करना चाहिए।

मैं दृढ़ता से आपको यह सुझाव देता हूं कि इससे अधिक पूंजी ट्रेडिंग अकाउंट में ना लगाएं। इतनी ही राशि से सीखिए। छोटे ट्रेड कीजिए और अपनी गलतियों से सीखिए।

यदि एक ट्रेड गलत हो जाए तो सीखिए इसके पीछे क्या गलती थी और यह आपके विपरीत कैसे चला गया?

जब आप असल में प्रॉफिट बनाना शुरु कर देंगे और 10% या उससे अधिक रिटर्न कमाना शुरू कर देंगे तो इसका यह अर्थ है कि आप सीख रहे हैं और अपना अगला कदम उठाने के लिए तैयार हैं।

आंकड़ों के हिसाब से आमतौर पर नए ट्रेडर्स में से 90% ट्रेडर्स शुरुआती 3 महीनों में ही अपनी संपूर्ण पूंजी खो देते हैं और शेयर बाजार में ट्रेडिंग करना बंद कर देते हैं। मैं यह नहीं चाहता कि आप भी उन ट्रेडर्स की तरह बने।

मैं यह चाहता हूं कि आप उन 10 प्रतिशत ट्रेडर्स में शामिल हो जो वास्तव में लाभ उठाते हैं और ट्रेडिंग से कमाते हैं। ट्रेडिंग से धन कमाने के लिए आपको उन सभी नियमों का सख्ती से पालन करना पड़ेगा जो मैं आपके साथ सांझा करने जा रहा हूं।

मैंने गलतियां करने और धन व्यर्थ करने के बाद इन नियमों को सिखा। मेरा भरोसा कीजिए की इन नियमों का आपको शुरू से ही पालन करना होगा। अन्यथा आपका हाल भी मेरे जैसा ही होगा जिसका ट्रेडिंग अकाउंट तीन बार शेयर मार्केट में बने रहने के लिए खत्म हो चुका है।

नियम:

  • कभी भी बड़ी धनराशि के साथ शुरुआत मत कीजिए। ₹5000- ₹10000 से शुरुआत कीजिए।
  • 2-3 ट्रेड जीत जाने के बाद अति आतम विश्वासी ना बने। शांत रहिए और अपने ट्रेडिंग सिस्टम को फॉलो करते रहिए। आवेग और बदले वाली ट्रेडिंग से हर कीमत पर बचे।
  • 1 दिन में 2-3 ट्रेडज से अधिक ना करें।
  • मार्जिन ट्रेडिंग से बचे हैं।
  • स्टॉप लॉस के बिना ट्रेडिंग कभी ना करें। असल में स्टॉप लॉस, शेयर मार्केट में आपका मित्र है। हमेशा ध्यान रखें कि आप यह निश्चित नहीं कर सकते कि आप मार्केट से कितना धन कमाएंगे। कुछ भी मार्केट आपको देता है आपको लेना ही होगा, परंतु आप यह निश्चित कर सकते हैं कि मार्केट में आप कितने नुकसान के लिए तैयार हैं।
  • हमेशा उन ट्रेड्स में ही धन लगाना चाहिए जिसमें जोखिम और इनाम 1:1 अनुपात में हो। इससे कम के अनुपात की सिफारिश नहीं की जा सकती। आदर्श रूप से आपका लक्ष्य 1:3 होना चाहिए जिसका अर्थ है ₹100 का जोखिम लेने पर आप ₹300 कमा रहे हैं।
  • अच्छे लेवल पर खरीदे और बेचे। किसी भी ट्रेड को करने से पहले एक अच्छा ट्रेडिंग सेटअप तैयार होने दे।
  • कभी भी किसी अन्य की ट्रेडिंग टिप्स का पालन मत कीजिए। आमतौर पर नए ट्रेडर्स अन्य लोगों की ट्रेडिंग टिप्स को अत्यधिक भरोसा करते हैं। यह बहुत बड़ी गलती है। आपका शुभ चिंतक होने के नाते मैं आपको यही सुझाव दूंगा की आप इस से दूर रहें। छोटी-छोटी ट्रेड करें और सीखें। इस प्रकार आप आने वाले समय में मार्केट में बने रह पाएंगे ।

मैं चाहता हूं कि आप इन नियमों का पालन करें। देखिए शुरू में आपको इन नियमों का सख्ती से पालन करना पड़ेगा। थोड़े अनुभव के पश्चात आप अपने खुद के नियम बना सकते हैं परंतु तब तक इन नियमों का ही उपयोग करेंगे।

मैं बहुत जल्द नए ट्रेडर्स के लिए कंप्रिहेंसिव इंट्राडे रूल्स बुक प्रकाशित करने जा रहा हूं जो आपकी धन कमाने में मदद करेगी, इसलिए मेरे साथ जुड़े रहिए।

कैसे खरीदें, बेचें और स्टॉप लॉस ऑर्डर डालें।

मैं चाहता हूं कि आप इन नियमों का पालन करें। देखिए शुरू में आपको इन नियमों का सख्ती से पालन करना पड़ेगा। थोड़े अनुभव के पश्चात आप अपने खुद के नियम बना सकते हैं परंतु तब तक इन नियमों का ही उपयोग करेंगे।

मैं बहुत जल्द नए ट्रेडर्स के लिए कंप्रिहेंसिव इंट्राडे रूल्स बुक प्रकाशित करने जा रहा हूं जो आपकी धन कमाने में मदद करेगी, इसलिए मेरे साथ जुड़े रहिए।

कैसे खरीदें, बेचें और स्टॉप लॉस ऑर्डर डालें?

शेयर बाजार में कैसे खरीदा, बेचा और स्टॉप लॉस ऑर्डर डाला जाता है यह जानने के लिए इस वीडियो को ध्यान से देखिए। इस प्रक्रिया को समझाने के लिए मैंने एंजल ब्रोकिंग का उपयोग किया है। परंतु यह प्रक्रिया सभी ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर समान है।

यदि आप यह सीखना चाहते हैं की इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे की जाती है तो आपको यह वीडियो अवश्य देखना चाहिए।

शेयर मार्केट में आप शॉर्ट या लोंग पोजीशंस लेकर; दूसरे शब्दों में स्टॉक खरीद कर या बेच कर आप लाभ अर्जित कर सकते हैं।

शेयर बाजार में कैसे निवेश करें

एंजल ब्रोकिंग में इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे करें लॉन्ग पोजीशन दर्शाती है कि मार्केट में आपके दृष्टिकोण के हिसाब से तेजी है। अपने विश्लेषण करने के बाद यदि आपको लगता है कि मार्केट मौजूदा पोजीशन से ऊपर जाएगी तो आपको निफ़्टी, बैंक निफ़्टी या सेंसेक्स या स्टॉक खरीदने चाहिए।

आइए इसको एक उदाहरण के साथ समझे मान लीजिए निफ़्टी 13500 पर है और आप यह सोचते हैं कि यह अभी और ऊपर जाएगा। इस परिदृश्य में आप निफ्टी या अपनी पसंद का स्टॉक खरीदेंगे।

शार्ट पोजीशन का अर्थ है कि मार्केट में आपके दृष्टिकोण के हिसाब से मंदी है और आप यह सोचते हैं की करंट पोजीशन से मार्केट नीचे जाएगी।

उदाहरण के तौर पर मान लेते हैं कि निफ्टी 13500 पर है (12-12- 2020) और विश्लेषण करने के बाद आप यह मान लेते हैं कि अगले कुछ दिनों में या उसी दिन यह 13000 तक गिर जाएगा। तब इस परिदृश्य में आप निफ्टी बेचकर शार्ट पोजीशन लेते हैं। वैसे, शार्ट पोजीशन का अर्थ यह है कि आप सेल साइड पर हैं।

ट्रेडिंग में स्टॉप लॉस बहुत महत्वपूर्ण है। असल में, अक्सर यह कहा जाता है कि स्टॉप लॉस ट्रेडिंग में आपका मित्र हैं। आप यह निश्चित नहीं कर सकते कि स्टॉक मार्केट आपको कितना लाभ देगा परंतु आप यह अवश्य ही निश्चित कर सकते हैं कि आप कितना हारने को तैयार हैं।

नीचे दिए गए उदाहरण के द्वारा मैं आपको यह दर्शाने की कोशिश कर रहा हूं की स्टॉप लॉस का शेयर बाजार में कितना महत्व है।इस समय भारतीय स्टेट बैंक का शेयर प्राइस ₹272.45 पैसे है और हम यह मान लेते हैं की मेरे दृष्टिकोण के अनुसार यह और ऊपर जाएगा और अगले कुछ दिनों में एसबीआईइन शेयर का भाव ₹300 पहुंचेगा। इस दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए मैंने एसबीआई के 100 शेयर बिना स्टॉप लॉस के खरीदें।

परंतु अचानक मार्केट में क्रैश आने के कारण शेयर प्राइस ₹300 को छूने की बजाय ₹50 घटकर ₹222.45 पैसे पर रुक गया। अब 2755 रुपए कमाने की बजाए (मैंने सोचा था की शेयर की प्राइस ₹27.55 पैसे तक बढ़ जाएंगे, ₹27.50 पैसे x 100 शेयर्स) मुझे ₹5000 का नुकसान हुआ (₹50 x 100 शेयर के मूल्य में गिरावट)।

इसी प्रकार इसी ट्रेड में यदि मैंने ₹10 के स्टॉप लॉस के साथ ट्रेड से एग्जिट करना निश्चित किया होता तो उसका अर्थ यह होता कि यदि एसबीआई के प्राइस ने ₹265.45 पैसे को छुआ होता तो मैं एग्जिट हो गया होता और मुझे केवल ₹1000 का नुकसान होता।

इस ट्रेड को मैं अधिकतर आदर्श 1:3 जोखिम और इनाम अनुपात में करता।ऊपर दिए गए उदाहरण के द्वारा हमने यह सीखा कि कैसे स्टॉप लॉस ऑर्डर की मदद से शेयर मार्केट में होने वाले नुकसान को हम सीमित कर सकते हैं।

इसलिए ट्रेड शुरू करने से पहले एक क्लियर टारगेट और स्टॉपलॉस निश्चित कीजिए और उस प्राइस पर सख्ती से एग्जिट कीजिए।

मेरा यह मानना है कि अब आप शेयर मार्केट में निवेश करने के लिए तैयार हैं। यह आप जैसे उन सभी लोगों के लिए पूर्ण रूप से मार्गदर्शक है जो यह जानना चाहते हैं कि शेयर बाजार में निवेश कैसे कर सकते हैं और कैसे ट्रेडिंग कर सकते हैं।

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.